छत्तीसगढ़ में लटक रही है कलम के ऊपर तलवार : तामेश्वर सिन्हा 

बेबाक कलम /तामेश्वर सिन्हा  बस्तर : छत्तीसगढ़ में आजाद पत्रकारिता का सच यह है कि लिखने-बोलने वाले पत्रकार साफ्ट टारगेट पर हैं। प्रदेश में इन दिनों पत्रकार और पत्रकारिता दोनों खतरे Continue Reading

Posted On :

जियो का जलवा खत्म, कछुवा स्पीड प्रदाता मुकेश अंबानी पर नकेल कौन कसे?

  खरी- खरी /अश्वनी कुमार श्रीवास्तव तकरीबन साल भर पहले मुकेश अम्बानी के झांसे में मैं भी आ गया था और न सिर्फ अपने मोबाइल में बल्कि घर में भी Continue Reading

Posted On :

हिंदुत्व को इस देश का सबसे बड़ा रोग मानने वाले अंबेडकर भाजपा के किसी काम के कैसे हो सकते हैं?

विशेष आलेख / प्रियदर्शन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों को अंबेडकर जयंती की शुभकामनाएं दी हैं. उन्होंने कहा है कि बाबा साहेब ने समाज के गरीब और कमजोर तबके को Continue Reading

Posted On :

अम्बेडकर जयंती : बालक भीमराव अम्बेडकर के बचपन के नायक कबीरदास थे

Written by आनन्द दास ज्ञान और कल्याण के प्रतीक बाबा साहब अंबेडकर… बाबा साहब अंबेडकर जैसे महापुरूष की जयंती मनाने से अपने आप में गर्वबोध महसूस होता है। अंबेडकर जयंती Continue Reading

Posted On :

विपक्ष को कुत्ती कुत्ता बताने के चक्कर में अमित शाह ने मोदी को विनाश का प्रतीक बना दिया

बेबाक कलम/ रविश कुमार   “2019 के कार्यक्रम की शुरुआत हो गई है, सारा विपक्ष आह्वान करता है कि इकट्ठा आओ। मैंने एक वार्ता सुनी थी। जब बहुत बाढ़ आती Continue Reading

Posted On :

भारतीय मीडिया में दलित पत्रकार क्यों नहीं हैं?

अंग्रेजी पत्रकारिता में आपको खुलेआम खुद को समलैंगिक बताने वाले लोग ज्यादा मिल जाएंगे, बनिस्बत ऐसे लोगों के जो खुल कर अपना दलित होना कुबूल करते हों. फोटो: रॉयटर्स पिछली Continue Reading

Posted On :

‘निजी सेनाओं’ की ज़रूरत क्या

विशेष आलेख /हुमरा कुरैशी राजनैतिक दल और लोग लोकतंत्र में अपनी-अपनी सेनाएं क्यों बनाते है? पिछले कुछ सालों में दक्षिणपंथी राजनैतिक दलों ने अपनी-अपनी सेनाएं खड़ी करनी शुरू कर दी Continue Reading

Posted On :

देश के सामने गृहयुद्ध का खतरा !

कड़वा सच / दिनकर कपूर   अभी मैं आजतक न्यूज चैनल पर खबर देख रहा था तभी मैंने देखा कि मेरठ में 2 अप्रैल को आयोजित भारत बंद में शामिल Continue Reading

Posted On :

महान दलित विभूतियों का तिरस्कार?

हमारा देश सदियों पुराना देश है जहां ना जाने कितने बड़े-बड़े राजा-महाराजाओं ने राज किया और देश के इतिहास के पन्नों पर अपने कार्यों के माध्यम से अमिट छाप छोड़ Continue Reading

Posted On :

आखिर दलितों का शोषण कब तक

इतिहास साक्षी है कि पेशवाओं ने अछूत माने जाने वालों पर क्रूर सामाजिक बंधन लगाए थे। उन्हें अपने गलों में बर्तन बांधकर रहना पड़ता था ताकि वे जमीन पर थूककर Continue Reading

Posted On :

भ्रष्टाचार रोकने के उपाय

वर्तमान भारत में आज भ्रष्टाचार हमारे देश भारत में पूरी तरह से फ़ैल चूका है। भारत में आज लगभग सभी प्रकार केआईटी कंपनियां,  बड़े कार्यालय, अच्छी अर्थव्यवस्था होने के बावजूद Continue Reading

Posted On :

भारत-पाक में परमाणु युद्ध हुआ तो होगा अकल्पनीय तबाही

भारत-पाक के बीच तनाव अपने चरम सीमा पर है।  टीवी चैनल्स, वेबसाइट्‍स और सोशल मीडिया  फेसबुक, ट्विटर सहित कई प्रतिष्ठित वेबसाइटों पर इस मुद्दे पर चलाए गए कई  बहस में Continue Reading

Posted On :

राजधानी के दो दर्जन स्कूलों की मान्यता रद्द, शिक्षा विभाग ने जारी किया आदेश

रायपुर. राजधानी के 24 स्कूलों की मान्यता रद्द कर दी गई है. जिला शिक्षा अधिकारी ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि निरीक्षण रिपोर्ट के बाद शासन ने ये फैसला Continue Reading

Posted On :