लखनऊ : पश्चिम उत्तर प्रदेश में धर्मपरिवर्तन को लेकर विवाद छिड़ा हुआ है। एक दलित युवक ने मुस्लिम प्रेमिका से शादी करने के लिए इस्लाम कबूल कर लिया था। इसको लेकर बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने बवाल करना शुरू कर दिया था। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, शामली निवासी एक दलित युवक को मुस्लिम युवती से प्रेम हो गया था। वह उससे शादी करना चाहता था, लेकिन लड़की पक्ष वाले इस बात पर अड़े थे कि धर्मपरिवर्तन के बाद ही दोनों की शादी संभव हो सकेगी। लगातार दबाव के बाद युवक ने धर्मपरिवर्तन कर लिया था। एक मौलवी ने बाकायदा उस दलित युवक का मुजफ्फरनगर कोर्ट में धर्मपरिवर्तन का पंजीकरण भी कराया था। इसकी जानकारी मिलने पर हिंदू संगठनों में हड़कंप मच गया था। बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने हंगामा करना शुरू कर दिया। बजरंग दल और अन्य हिंदू संगठनों से जुड़े लोग दलित युवक के घर पहुंचकर उसे समझाना शुरू कर दिया। दलित युवक ने अपनी गलती मानते हुए इस्लाम त्यागकर फिर से हिंदू धर्म अपना लिया। उसने दाढ़ी मुंडाकर तिलक लगा लिया।

मौलवी के कहने पर बदला धर्म, बजरंग दल पर मारपीट का आरोप: दलित युवक शामली के सदर कोतवाली के विश्वकर्मा नगर मोहल्ले का रहने वाला है। उसने बताया कि मौलवी के कहने पर उसने मुस्लिम धर्म अपना लिया था। बताया जाता है कि बजरंग दल के कार्यकर्ता उस वक्त भी उसे समझाने के लिए वहां पहुंचे थे, लेकिन युवक नहीं माना था। संगठन के लोगों ने कथित तौर पर युवक के साथ मारपीट भी की थी। हालांकि, इस घटना के बाद बजरंग दल के नेताओं ने दलित युवक को हिंदू समाज के बारे में विस्तार से समझाया था। कथित तौर पर इसके बाद वह जय श्रीराम और हर-हर महादेव के नारे लगाने लगा। हिंदू धर्म अपनाने के बा द उसने पारंपरिक रीति-रिवाज के साथ रहने की बात कही। बता दें कि ‘घर वापसी’ अभियान को लेकर पश्चिम उत्तर प्रदेश में पहले भी कई बार विवाद हो चुका है। इसको लेकर इलाके में इस हद तक तनाव बढ़ा कि स्थिति को नियंत्रित करने के लिए अतिरिक्त सुरक्षाबलों को भी तैनात करना पड़ा था। हालांकि, यह मामला बिना किसी ज्यादा बवाल के निपट गया।
 www.jansatta.com से साभार 
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *