बोले ब्राह्मण कभी भी सत्ता के भूखे नहीं रहे, ब्राह्मणों ने ही भगवान बनाए

राजेंद्र त्रिवेदी ने कहा, ‘मैं हमेशा कहता हूं कि ब्राह्मणों ने ही भगवान बनाए. भगवान राम एक क्षत्रिय थे, लेकिन ऋषि-मुनियों ने उन्हें भगवान बनाया. गोकुल के चरवाहे को हम ओबीसी कहेंगे, उस ओबीसी को भगवान किसने बनाया? संदीपनी ऋषि ने, एक ब्राह्मण ने. भगवान व्यास एक मत्स्यकन्या के बेटे थे और उन्हें भी ब्राह्मणों ने भगवान बनाया.’

अहमदाबाद : गुजरात विधानसभा के स्पीकर राजेंद्र त्रिवेदी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और संविधान निर्माता डॉ. बीआर अंबेडकर को ‘ब्राह्मण’ कहा है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कृष्ण  ओबीसी थे, जिन्हें ऋषि संदीपनी ने भगवान बनाया था. त्रिवेदी गांधीनगर में ‘समस्त गुजरात ब्रह्म समाज’ के ब्राह्मण व्यापार-रोजगार सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे.

गुजरात विधानसभा के स्पीकर ने कहा कि ब्राह्मण कभी भी सत्ता के भूखे नहीं रहे. उन्होंने कहा कि ब्राह्मणों ने राजाओं के लिए सफलता का मार्ग प्रशस्त किया है और इस दौरान चंद्रगुप्त मौर्य, श्रीराम और कृष्ण का उदाहरण दिया.

राजेंद्र त्रिवेदी ने कहा, ‘मैं हमेशा कहता हूं कि ब्राह्मणों ने ही भगवान बनाए. भगवान राम एक क्षत्रिय थे, लेकिन ऋषि-मुनियों ने उन्हें भगवान बनाया. गोकुल के चरवाहे को हम ओबीसी कहेंगे, उस ओबीसी को भगवान किसने बनाया? संदीपनी ऋषि ने, एक ब्राह्मण ने. भगवान व्यास एक मत्स्यकन्या के बेटे थे और उन्हें भी ब्राह्मणों ने भगवान बनाया.’

इस मौके पर गुजरात के सीएम विजय रुपाणी और डिप्टी सीएम नितिन पटेल भी मौजूद थे. इस दौरान त्रिवेदी ने ‘अर्थशास्त्र’ के लेखक और चंद्रगुप्त मौर्य के गुरु चाणक्य का भी जिक्र किया. उन्होंने कहा कि अगर चाणक्य चाहते तो खुद राजा बन जाते, लेकिन ब्राह्मण कभी सत्ता का भूखा नहीं होता. उन्होंने कहा कि ब्राह्मण हमेशा पूरे समाज की भलाई के बारे में सोचता है.

अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक त्रिवेदी ने ब्राह्मणों की तुलना उबले हुए दूध के ऊपर जमने वाली मलाई से की. अपने भाषण के अंत में  उन्होंने कहा कि हर पढ़ा-लिखा इंसान ब्राह्मण होता है. उन्होंने कहा, ‘मुझे यह कहने में कोई झिझक नहीं है कि अंबेडकर भी एक ब्राह्मण थे. वह अपने सरनेम की वजह से ब्राह्मण थे जो उनके एक ब्राह्मण टीचर ने दिया था. मैं गर्व के साथ कह सकता हूं कि माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी भी ब्राह्मण हैं.’

उन्होंने अपने भाषण में बताया कि ब्राह्मण समुदाय ने देश को पांच राष्ट्रपति, सात प्रधानमंत्री , 50 मुख्यमंत्री, 50 से ज्यादा राज्यपाल, 27 भारत रत्न विजेता और सात नोबल पुरस्कार विजेता दिए हैं. इस सम्मेलन में रोजगार की तलाश में आए हजारों युवा शामिल हुए थे.

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *